loading...

राशिफल : जानिए आज क्या कहती है आज आपकी किस्मत...

 राशिफल : जानिए आज क्या कहती है आज आपकी किस्मत...
Image result for राशिफल 

मेष  - अनिद्रा के कारण स्वास्थ्य बिगड़ सकता है। बौद्धिक चर्चा से आनंद तो प्राप्त हो सकता है, परंतु ऐसी बौद्धिक चर्चा से दूर रहने के लिए गणेशजी की सलाह है। प्रवास भी संभव हो तो टालिएगा।

यह भी पढ़े ➩ जानिए :साईं बाबा की मूर्ति का यह राज जो बहुत कम लोग जानते हैं...
➩ जानिए : कैसे हुआ शनिदेव का जन्म...
➩ शनिवार के दिन 1 रोटी का उपाय करे - आप की हो जाएंगी सारी परेशानियां दूर...
 
वृषभ - शारीरिक और मानसिक रूप से आप आनंद का अनुभव करेंगे। आर्थिक लाभ होने की भी संभावना है। परंतु मध्याह्न के बाद की स्थिति विपरीत होने की संभावना है। धन का खर्च अधिक होगा और अपयश प्राप्त होने का योग है।
मिथुन  - पढने-लिखने में विद्यार्थियों का मन नहीं लगेगा। परंतु मध्याह्न के बाद आपका मन प्रफुल्लित रहेगा। फिर भी नए कार्य का प्रारंभ न करने का साहस आज न कीजिएगा। प्रतिस्पर्धियों पर आप विजयी बनेंगे।
कर्क  - भावनाओं के प्रवाह में आप न बह जाएं इसके लिए गणेशजी आपको चेतावनी देते हैं। छोटे प्रवास या पर्यटन की संभावना है। आज के दिन आपका स्वास्थय अच्छा रहेगा और मन भी प्रफुल्लित रहेगा।
सिंह  - आज किसी भी प्रकार का निर्णय लेने की स्थिति में आप नहीं रहेंगे इसलिए आवश्यक निर्णय आज न लेने की गणेशजी सलाह देते हैं। पारिवारिक कार्यों के पीछे धन का खर्च होगा। वाणी पर संयम रखिएगा। गलतफहमियों को दूर कर दीजिएगा।
कन्या  - दिन मध्यम फलदायी रहेगा ऐसा गणेशजी कहते हैं। आज परिस्थिति अनुकूल रहेगी। शारीरिक और मानसिक रूप से सुख शांति रहेगी। व्यावसायिक क्षेत्र में भी वातावरण अनुकूल रहेगा। परंतु मध्याहन के बाद आपके मन की स्थिति दुविधापूर्ण रहेगी।




तुला  - व्यवसाय में उच्च अधिकारियों की ओर से आर्थिक लाभ होगा। आर्थिक आयोजन निष्ठापूर्वक संपन्न कर सकेंगे। स्वास्थ्य भी अच्छा रहेगा। मानसिकरुप से शांति का अनुभव होगा। संतानों की ओर से सुख मिलेगा।

वृश्चिक  - धन लाभ की भी संभावना है। व्यवसाय में पदोन्नति के योग हैं। आप का प्रत्येक कार्य सफल होने के साथ-साथ पूर्ण भी होगा। माता से सम्बंध अच्छा रहेगा। मान-सन्मान प्राप्त होगा। गृहस्थजीवन आनंदपूर्ण रहेगा।
धनु  - आर्थिक रूप से तंगी का अनुभव करेंगे। परंतु मध्याह्न के बाद आप शारीरिक और मानसिक स्वस्थता से प्रफुल्लित हो जाएंगे। आकस्मिक धनप्राप्ति का योग है। व्यवसायियों को कारोबार में लाभ होगा। मित्रों और स्नेहीजनों के साथ आनंदपूर्वक समय बीतेगा। प्रवास का योग है।




मकर  - आज के दिन परिवारजनों के साथ आनंदपूर्वक प्रवास या पर्यटन का आनंद मनाएंगे, परंतु मध्याह्न के बाद आपका मन व्यग्रता का अनुभव करेगा। अधिक खर्च होने से धन की तंगी रहेगी। सरकारी कार्यों में विघ्न आएंगे।
कुंभ - गणेशजी के आशीर्वाद से आपका आज का दिन सुख-शांतिपूर्वक बीतेगा। पारिवारिक जीवन में भी आनंद छा जाएगा। शारीरिक और मानसिक स्वस्थता प्राप्त होगी। आमोद-प्रमोद के साथ वाहनसुख प्राप्त होगा।
मीन  - किसी भी व्यक्ति के साथ अनावश्यक वाद-विवाद न किजीएगा। नए कार्य का प्रारंभ न करिएगा। परंतु मध्याह्न के बाद स्थिति में आकस्मिक सुधार दिखेगा। शारीरिक और मानसिक रूप से आप स्वस्थता का अनुभव करेंगे।



राजस्थान में सचिन पायलट ही होंगे कांग्रेस के सबसे बड़े नेता। राहुल गांधी ने साफ संकेत दिए।




19 जुलाई को बांसवाड़ा की किसान रैली में कांग्रेस के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने साफ-साफ संकेत दे दिए हैं कि राजस्थान में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सचिन पायलट ही सबसे बड़े नेता हैं। पूर्व सीएम अशोक गहलोत और राष्ट्रीय महासचिव सीपी जोशी सरीखे कांग्रेसी पायलट के सहायक हैं। किसानों के आंदोलन के सम्बन्ध में राहुल गांधी ने कहा कि सचिन पायलट जहां भी कहेंगे, वहां मैं भाषण देने के लिए आ जाऊंगा। हमारे वरिष्ठ नेता गहलोत और जोशी भी सहयोग करेंगे। अपने 15 मिनिट के भाषण में राहुल गांधी ने कई बार कहा कि पायलट के नेतृत्व में ही राजस्थान में कांग्रेस मजबूत होगी। राहुल गांधी ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि यदि राजस्थान में कांग्रेस को बहुमत मिलता है तो पायलट ही मुख्यमंत्री होंगे। राहुल गांधी के आज के संकेतों को अशोक गहलोत के कथन और सीपी जोशी के आरसीए अध्यक्ष बनने से जोड़कर देखा जा रहा है। गहलोत ने दो दिन पहले ही जोधपुर में कहा था कि कांग्रेस हाईकमान ने गुजरात का प्रभारी इसलिए बनाया है ताकि राजस्थान में भी सक्रिय भूमिका निभा सकूं। इस प्रकार सीपी जोशी गत माह जब राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष चुने गए तो कांग्रेस का राजनीतिक माहौल गर्म हो गया। लेकिन 19 जुलाई को राहुल गांधी ने साफ कर दिया कि अब अशोक गहलोत और सीपी जोशी की भूमिका सहायकों की ही है। कांग्रेस का जहाज तो सचिन पायलट ही उड़ाएंगे।

*दोस्ताना अंदाज :*

कांग्रेस के जो नेता बांसवाड़ा की रैली में उपस्थित थे और जिन्होंने टीवी पर रैली का लाइव प्रसारण देखा, उन्होंने यह भी देखा होगा कि पायलट और राहुल गांधी मंच पर दोस्ताना अंदाज में संवाद कर रहे थे। अशोक गहलोत और सीपी जोशी जैसे वरिष्ठ कांग्रेसी भले ही राहुल गांधी से बात करने में झिझकते हों, लेकिन सचिन पायलट राहुल गांधी से दोस्त के तौर पर बात कर रहे थे। जिस तरह कॉलेज के दो युवा दोस्त आपस में एक-दूसरे के हाथ लगाते हुए बात करते हैं, उसी प्रकार मंच पर राहुल और पायलट बात कर रहे थे। इस दोस्ताना अंदाज से भी गहलोत और जोशी को अपनी स्थिति के बारे में अंदाजा लगा लेना चाहिए। हालांकि जोशी तो चुप रहते हैं, लेकिन अशोक गहलोत कई मौके पर यह दिखाते हैं कि वे आज भी राजस्थान में कांग्रेस के सबसे बड़े नेता हैं। यह बात अलग है कि पायलट ने प्रदेश कांग्रेस कमेटी का अध्यक्ष रहते हुए गहलोत के समर्थकों को संगठन से बाहर कर दिया है। गहलोत का वो ही समर्थक संगठन में शामिल हो सकता है, जिसने पायलट का दामन थामा है।

गर्भावस्था में रखे इन बातों की सावधानिया...

गर्भावस्था में रखे इन बातों की सावधानिया...
Image result for गर्भावस्था में रखे इन बातों की सावधानिया.

गर्भावस्‍था के इन नौ महीनों में कुछ खतरे भी होते हैं जिनके बारेमें गर्भवती महिला को जानना बहुत जरूरी है, जिससे वह गर्भपात की संभावना को रोक सके। गर्भ धारण करने से लेकर प्रसव होने तक उन्हें अपना खयाल तरह से रखना चाहिए गर्भधारण के बाद बच्चे का विकास होना शुरू हो जाता है।


@ थकान :

Related image
सो कर उठने के बाद कमजोरी और थकान महसूस करना Pregnancy problems में सबसे आम है ये समस्या पहले तीन महीने के दौरान ज्यादा महसूस होती है| हार्मोन में हो रहे परिवर्तनों के कारण ऐसा होता है| इस से घबराने की जरुरत नहीं है| गर्भावस्था के अनुरूप स्वस्थ आहार लेने और नियमित दिनचर्या का पालन करके आप इन समस्याओ को कम कर सकती है 

@ कमर दर्द :
Image result for गर्भावस्था में रखे इन बातों की सावधानिया.


तीसरे महीने तक कमर दर्द बढ़ने लगता है, क्योंकि शरीर का तनाव और बच्चे का भार बढ़ता जाता है।
कुछ महिलाओं का कमर दर्द डिलीवरी के बाद खत्म हो जाता है , लेकिन जो महिलाऐं ध्यान नहीं रखती है , उनमें यह समस्या हमेशा के लिए घर कर जाती है। गर्भावस्था के दौरान ना तो भारी सामान उठाए और न ही सरकाए ! कामकाजी महिलाए ना तो सारा दिन सीट पर बैठी रहे और न ही देर तक खड़ी रहें। कुछ देर उठ कर टहल लें। जब उठे, तो शरीर को स्ट्रेच करें। नींद में कमी होना- गर्भावस्था के दौरान विभिन्न शारीरिक बदलावों के कारन अनिंद्रा की समस्या हो जाती है इस से निपटने के लिए चाय, कॉफ़ी, कैफीन, अल्कोहल और वसा युक्त खाने से परहेज रखना चाहिए |



@ संक्रमण समस्या :

यदि वेजाइना में इचिंग की समस्या है, खुजली परेशान कर रही है, तो यूरिन टेस्ट के द्वारा इन्फेक्शन की जांच कराएं। अगर कुछ ना निकले, समझें कि ऐसा वेजाइनल पी एच लेवल में आ रहे बदलावों की वजह से रहा है। यह सामान्य बात है। इस खारिश से छुटकारा पाने के लिए बेकिंग सोडा में पानी मिला कर पेस्ट बनाएं और प्रभावित हिस्से में लगाएं। सफाई का पूरा ध्यान रखें। ख्याल रखें कि वेजाइनल एरिया हमेशा साफ और सूखा रहे। कॉटन की ढीली पैंटी पहनें। गर्भावस्था के दौरान योनि से स्राव की समस्या से लगभग हर स्त्री जूझती है यह इसलिए होता है क्योंकि गर्भाशय ग्रीवा और योनि की त्वचा बहुत नरम हो जाती है इसलिए डिस्चार्ज बढ़कर संक्रमण को योनि से गर्भ की और बढ़ने से रोकता है |

@ गर्भावस्था में मुँहासे :

Image result for गर्भावस्था में मुँहासे


इनसे बचने के लिए आप कुछ केमिकल फ्री कास्मेटिक का उपयोग करे जैसे Tea Tree Bar Soap और मुँहासे के लिए कोई भी हर्बल लोशन |

@ शिशु की हलचल : 

36 से 40 सप्ताह के गर्भ में बच्चे की गतिविधिया और तेज हो जाती है! वह पेट में घूमना और लातें चलाना शुरू कर देता है। हर गर्भवती स्त्री जानती है कि दिनभर में कब गतिविधियां तेज हो जाती हैं। अपने गर्भस्थ शिशु के मूवमेंट के तरीके वह जानती है। अगर उसे महसूस हो कि उसका मूवमेंट काफी कम है या बिलकुल नहीं हो रहा है, तो यह समय निश्चित रूप से डॉक्टर को बुलाने का है। वे हॉस्पिटल जाने की सलाह दे सकते हैं, ताकि वह डॉक्टर की निगरानी में रहे और जरुरत पड़ने पर आवश्यक कदम उठाए जाएं।


आखिर क्यों करना पड़ा हनुमानजी को अपने ही पुत्र से युद्ध...

आखिर क्यों करना पड़ा हनुमानजी को अपने ही पुत्र से युद्ध...
Image result for भगवान शिव ने लिया था हनुमान रूप में अवतार

# ये तो सब जानते हैं कि हनुमान राम के परम भक्त थे और राम उनके आराध्य. लेकिन वाल्मीकि की रामायण में हनुमान के बारे में किये गये कुछ ज़िक्र ऐसे हैं जो अब तक ज्यादातर लोगों को नहीं पता है. वाल्मीकि-रामायण में वर्णित है कि लंका युद्ध के दौरान विभीषण की सलाह पर राम और लभ्मण की सुरक्षा की कमान स्वयं हनुमान ने अपने हाथों में ले ली थी. लेकिन हनुमान को चकमा देकर मायावी अहिरावण अपनी शक्तियों के बल पर उन्हें उनकी कुटिया से ले जाने में सफल रहा. वह राम और लक्ष्मण को पाताल लोक लेकर चला गया. वहाँ उसने उन दोनों को बंदी बना लिया और उनकी बलि देने की तैयारी करने लगा.
यह भी पढ़े ➩ जानिए :कैसे बचे माँ लक्ष्मी की बहन अलक्ष्मी के प्रकोप से ? ➩ श्री खाटूश्याम बाबा के स्त्रोत... ➩ शीश के दानी श्री खाटूश्यामजी का संक्षिप्त जीवन परिचय..
Image result for भगवान शिव ने लिया था हनुमान रूप में अवतार

यह भी पढ़े  ➩ भगवान शिवजी की पूजा करने से दूर होगा मंगल दोष...
  श्री खाटू श्याम जी पूरी कहानी...
 ➩ 
श्री खाटू श्याम जी प्रमुख त्यौहार व उत्सव...

# इधर हनुमान उनकी रक्षा के लिए अहिरावण के पीछे-पीछे पाताल लोक तक चले आये. पाताल लोक में घुसते ही उनका सामना एक ऐसे प्राणी से हुआ जो दिखने में आधा वानर था और आधा मकड़ा.  उत्सुकतावश हनुमान ने उस विचित्र से दिखने वाले प्राणी से उसके बारे में पूछा. उसने अपना परिचय देते हुए कहा कि वह हनुमान का बेटा है और उसका नाम मकड़ध्वज है.# हनुमान उसके इस जवाब से चकित रह गये. उन्होंने मकड़ध्वज से कहा कि, ‘हनुमान तो मैं ही हूँ. लेकिन तुम मेरे बेटे कैसे हो सकते हो क्योंकि मैं तो जन्म से ही अविवाहित हूँ.’  इस पर मकड़ध्वज ने हनुमान को अपने जन्म की कहानी बताई कि कैसे लंका-दहन के बाद पूँछ में लगी आग को समुद्र के पानी से बुझाते वक्त उसका जन्म हुआ.

Image result for भगवान शिव ने लिया था हनुमान रूप में अवतार

# इस पर हनुमान ने उसकी बातों की सच्चाई जानने के लिए अपने आराध्य का स्मरण किया. तब जाकर उन्हें उसकी बातों की सत्यता पर विश्वास हुआ. तब मकड़ध्वज ने अपने पिता हनुमान से उनका आशीर्वाद माँगा, लेकिन साथ ही उसने कहा कि वह अपने राजा अहिरावण को धोखा नहीं दे सकता इसलिये उन्हें उससे युद्ध करना ही होगा. हनुमान ने अपने पुत्र को आशीर्वाद देते हुए उससे द्वंद-युद्ध किया. इस युद्ध में मकड़ध्वज को परास्त कर हनुमान ने उसे बंदी बना लिया.


# तत्पश्चात वो अपने आराध्य राम और उनके भाई लक्ष्मण को अहिरावण के चंगुल से बचाने निकल पड़े. वहाँ अहिरावण का वध करने के बाद वो सब रावण से युद्ध करने के लिए निकलने लगे तो राम ने मकड़ध्वज को पाताल लोक का राजा बना देने की सलाह हनुमान को दी. अपने आराध्य की सलाह को मानते हुए हनुमान ने अपने पुत्र मकड़ध्वज को पाताल लोक का राजा घोषित कर दिया ! 
यह भी पढ़े 
 ➩ अगर सूर्यदेव को करना हो प्रसन्न - तो रविवार को करें इस मंत्र से पूजा...
 ➩ श्री शनि चालीसा...
  
घर और कार्य स्थान में न रखें लक्ष्मी जी की ऐसी फोटो - हो सकते हैं कंगाल...

आलू के सेवन से होते है अनेको बीमारियों में फायदे...

आलू के सेवन से होते है अनेको बीमारियों में फायदे...
Related image

आलू के बारे में हम सभी जानते है आलू में विटामिन बी 6 और कार्बोहाइड्रेट की मात्रा बहुत अधिक होती है. इस कारण इसके सेवन से जहां एक और मांसपेशियों में मजबूती बनी रहती है वहीं मस्तिष्क की नसों की सेहत भी ठीक रहती है “आलू” एक खाने योग्य एक कंद है। मकई, गेहू और चावल के बाद यह दुनिया की चौथी सर्वाधिक उपयोग की जाने वाली खाद्य फसल है। आलू का महत्व और उसके उपयोग करने का तरीका भी दुनियाभर में दिन ब दिन बढ़ता जा रहा है। 



 तो चलिए जानते है आलू से होने वाले फायदों के बारे में -

@ ह्रदय का स्वास्थ रखने में :
Image result for ह्रदय का स्वास्थ्य
आलू में पाया जाने वाला फाइबर, विटामिन C और विटामिन B 6, साथ ही इसमें पाई जाने वाली कोलेस्ट्रॉल की कमी सभी ह्रदय के स्वास्थ के लिए गुणकारी है। आलू में प्रयाप्त मात्रा में फाइबर पाया जाता है, जो खून में पाए जाने वाले कोलेस्ट्रॉल की मात्रा में कम करने में सहायक है, इससे ह्रदय संबंधी विकार होने का खतरा टल जाता है। अभ्यास से यह भी पता चला है की, जो लोग रोज़ 4069 मिलीग्राम पोटेशियम का सेवन करने है उनमे पोटेशियम का पर्याप्त मात्रा में सेवन ना करने वाले लोगो की तुलना में ह्रदय विकार से मृत्यु होने का खतरा कम हो जाता है।
@ सुजन और जलन को कम करने में :
Related image
आलू में पाया जाने वाला चोलीन (B श्रेणी का एक विटामिन) काफी गुणकारी माना जाता है, यह नींद, सिखने और स्मरण शक्ति में सहायक है। इसके साथ-साथ चोलीन चर्बी को कम करने और दीर्घकालीन सुजन एवं जलन को कम करने में भी सहायक है।
@ ब्लड प्रेशर को कम करने में :
Image result for ब्लड प्रेशर को कम
शरीर में सोडियम का कम मात्रा में सेवन करना स्वास्थकारी ब्लड प्रेशर के लिए बहुत जरुरी है, जबकि पोटेशियम का ज्यादा मात्रा में सेवन करना उसमे पाये जाने वाले वाहिकाविस्फार प्रभाव की वजह से महत्वपूर्ण है। साथ ही, देखा गया है की पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम (जो सभी आलू में पाए जाते है) भी प्राकृतिक रूप से ब्लड प्रेशर को कम करने में सहायक है।
@ पाचन क्रिया बढ़ाने में :
Image result for पाचन क्रिया बढ़ाने में
आलू में पाए जाने वाले फाइबर की वजह से, आलू हमें कब्ज से बचाता है और स्वास्थकारी पाचन क्रिया के लिए नियमितता को बढाता है।
@ कैंसर से बचाने में :
Related image
आलू में फोलेट पाया जाता है, जो डीएनए संमिश्रण और सुधार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, और डीएनए में कैंसर सेल्स के निर्माण की प्रक्रिया को रोकता है। फलो और सब्जियों जैसे आलू के माध्यम से जो फाइबर हम लेते है उसमे कोलेस्ट्रल कैंसर होने का खतरा काफी कम होता है। विटामिन C एक शक्तिशाली एंटीओक्सिडेंट है जो हमारे शरीर को होने वाले हानियों से बचाते है।
@ त्वचा को मुलायम व चमकदार बनाने में :
Image result for त्वचा को मुलायम
त्वचा को नियंत्रित करने वाला तंत्र, कोलेजन साधारणतः विटामिन C पर निर्भर करता है, जो हमारे शरीर में सूरज, प्रदुषण और प्रदूषित धुए से होने वाले नुकसान को भरने का काम करता है। साथ ही विटामिन C हमारे शरीर में कोलेजन तंत्र की क्षमता को भी विकसित करता है और त्वचा में होने वाले झुर्रियो को हटाकर त्वचा को मुलायम बनाता है।
@ हड्डियों को मज़बूत बनाने में :
Image result for हड्डियों को मजबूत
आलू में पाया जाने वाला आयरन, फास्फोरस, कैल्शियम, मैग्नीशियम और जिंक हड्डियों की रचना और उन्हें मजबूत बनाए रखने के लिये काफी उपयोगी है। आयरन और जिंक कोलेजन के उत्पादन और उसकी परिपक्वता में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। जबकि फास्फोरस और कैल्शियम दोनों ही हड्डियों की संरचना को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है, और दो खनिज पदार्थो के संतुलन को बनाए रखना हड्डियों के स्वास्थ के लिए बहुत जरुरी है – क्योकि छोटी मात्रा के कैल्शियम के साथ ज्यादा मात्रा में फास्फोरस का सेवन करने से हड्डियों को क्षति भी पहुँच सकती है।